Uncategorized

10 reasons to watch “A Cambodian Spring” at HotDocs this year.

“A Cambodian spring” is a documentary film by the award-winning filmmaker Chris Kelly. Kelly’s “A Cambodian Soring” portrays the conflict between the citizens of Cambodia and their government — leading to innocent people being driven off of their own land as the nation began to modernize itself.


Here are the ten important reasons why you should must watch this documentary this year at HotDocs Canadaian international documentary film festival. –
1- A Cambodian spring defines the true nature of a documentary filmmaker, without involvement in any particular side and free the viewer to make their own opinions.
2- A Cambodian spring redefines the process of shooting revolution, struggles and marches. The filmmaker didn’t force to provoke the emotions rather keeping them subtle and pure.
3- A Cambodian spring didn’t set someone as a protagonist and antagonist but, follows the process of highs and lows of people who are challenging the system.

4- A Cambodian spring portrays the power of camera, its outreach and how people use technology to spread their voices of struggle.

5- A Cambodian spring gives you are chance to re-constitute west’s definition of development and progress.
6- A Cambodian spring follows the involvement of mothers and their children in a struggle and shows us how it is important for all the genders to come together in struggle.
7- A Cambodian spring exposes the narrow mindedness of religious leaders and how they are used by the governments to implement certain laws.

8- A Cambodian spring is not just the story of Cambodia, but it represent every little struggle fought against land grabbing, illegal acquisitions and oppression of system.

9- A Cambodian spring talks about the layers of human psyche underneath the environment of revolt. Whether its the decision making of a community, fears of an activists or the insecurities of a mother.

10- A revolution is an ongoing process and this film continues the conversation of our systems, beliefs and the concerns for future generation.
That’s how this documentary becomes a must, must watch for everyone around to understand the struggle, revolts, fear and the engagement of people with the people as well as community with the government .
– Gursimran Datla

Advertisements
cinema · greatest directors · Uncategorized

“Cyclo” and Cinema of Tran Anh Hung.

Lat year when I saw “Scent of green papaya” it changed my perspective in storytelling in Cinema. I loved that film and loved the screen-writing and cinematography of that amazing Vietnamese film. The scent of green papaya was directed by Tran Anh Hung, renowned Vietnamese-born French film director. That film was nominated for the best foreign film in Academy awards.

 

CYCLO (1995) poster 3

Today I saw Cyclo ( 1995 ) another gem film directed by Tran Anh. In fact, Cyclo is the second film of Tran Anh. Cyclo is a story of a young Vietnamese man who struggles through life by earning some money with his bicycle-taxi in Saigon (now Ho Chi Minh City) establishes contact with a group of criminals. They introduce him to the world of drugs and crime. Tran has received an international name and claim for his films, especially his first three films which are entirely based on the lives at his home country. Cyclo won the Golden Lion at 52nd Venice International Film Festival.

Tran is well known to the western audience for his film “Norwegian Wood”, an adaptation from cult novelist Haruki Murakami’s book with the same name.

 

About Cyclo –

The movie is about an 18-year-old Vietnamese boy who has been orphaned after his father died from a crash. because of the family hardship, the boy has to take over the father’s job, pedaling a rental cyclo around busy streets of Sai Gon city to earn a living. Living with the boy in a small house, there is his old grandfather, who repairs tires, his little sister, who shines shoes for restaurant customers in the neighborhood, and his older sister, who carries water at a local market.

Rykszarz_fot2

 

Their poor but peaceful lives are shattered when the cyclo is stolen by a gang. Having no money to pay for the robbed cyclo, the boy is forced to join a criminal organization and is under the supervision of a brooding gang leader, who is also a poet.

Meanwhile, his older sister also comes under the influence of the poet and becomes a prostitute. They develop feelings for each other. She visits his house where he is beaten by his father, who is furious for the profession he has taken. The poet brings the cyclo driver to Mr. Lullaby, who kills a victim by slitting his throat while singing a lullaby.

Ho Chi Minh City is hit by unrest as different gangs start fighting with each other. A truck carrying a helicopter crashes on a busy city-street. The cyclo driver blinds one eye of the man who stole his cyclo, but manages to remain unseen by anyone. He pays another visit to his lady employer to pay a part of his debt, but she refuses and becomes busy with her retarded son who has covered himself with yellow paint.

The poet assigns the cyclo driver the job of murdering a man. His two accomplices give him a gun and teach him how to kill their intended target. They also hand him a bottle of pills to reduce his anxiety but warn him not to take too many. The poet and the cyclo driver’s sister visit his childhood place. He leaves her in a nightclub with a client and she is abused by the man. Both the poet and the man realize their mistakes and the man tries to compensate by bribing the poet with a hefty sum of money. But the poet kills the man and then kills himself by setting fire to the room where he lives.

attachment

Meanwhile, the retarded son of the lady is killed when he is hit by a truck. The cyclo driver gets drunk and takes two tablets of the drug he has received from the poet’s accomplices. He becomes hallucinatory in the flat where he has been forced to stay, failing to carry out the job of killing the man. Instead, he covers himself with blue paint and then due to the hallucinations he mistakenly shoots himself twice. The next morning, the members of the gang find him badly injured but still alive, and the lady spares his life despite his failure because he reminds her of her deceased son. She releases him from the gang. The movie ends with the scene of the cyclo driver, still contemplating the memory of his father, driving his cyclo with his grandfather and his two sisters on it through a crowded road of Ho Chi Minh City. – WIKIPEDIA.

The film is very Gritty, depressing, raw and poetic. filled with docu-style, realistic and Sumptuous photography by Benoit Delhomme, who also photographed Tran Anh Hung’s THE SCENT OF GREEN PAPAYA.

In totality, Cyclo is filled with memorable moments, sad moments,  melancholy in the society of under-developing countries, and the daily life struggle of people living in worse conditions. Every city has a forgotten class of people, who exists in pathetic conditions and drive the whole machinery of a city. They do all the labor and menial services. Cyclo is a painting about those areas of the city. Film deals with the philosophy of nihilism and fatlism.

Special mention for the actress Tran Nu Yen Khe, who once again gave a marvelous performance after “The Scent of Green Papaya”.  married to the director Tran Anh Hung. She has been in all his films thus far, with the exception of Norwegian Wood. She is amazing and her performance rips your heart apart.

001ceda3_medium

 

 

Cyclo is a must-must-see for cine-lovers.  On the question of working in different languages, Tran hung said –

“I’m dealing with one thing: it’s the language of cinema; it’s a nation by itself,” he says. “So no matter if it’s in English or Chinese, it’s not important. So when you’re working with a French actor or a Japanese actor or a Vietnamese actor, it’s the same thing. We’re talking the same language: the language of cinema. It doesn’t depend on the language that you’re speaking in the movie.”

 

 

– Gursimran Datla

( – References – Wikipedia, IMDB. )

Uncategorized

क्या तुम सुन पा रहे हो ?

मेरे दोस्त,

क्या तुम संगमरमर के इन बाग़ों में खड़े गोलियों की आवाज सुन पा रहे हो ?

इन गोलियों की आवाज़ ने हवा की सरसराहट को ख़त्म कर दिया है ।

क्या इन संगमरमर के बाग़ों में तुम्हें कोई ख़ुशबू आती है ?

तुमने गुलदौंदी के फूल और संदल के मैदानों को छोड़ कर इन बाग़ों को चुना था ।

अब बताओ 

इन बाग़ों के ऊँचे मीनारों से तुम गोलियों की आवाज़ सुन पा रहे हो ?

क्या तुमने इन मीनारों की दीवारों पर फड़फड़ाते फिरते काग़ज़ के पक्षियों को देखा है ?

कुछ सुना है तुमने ?

गोलियों से शहीद हुए निवासियों की याद में बज रही सरकार की और से धुनें । 🎶📢

विरलाप से ज़्यादा हस्ती हुयी सुनायी पड़ रही हैं ।

वो हँसी सुनी है तुमने ?

मासूम ख़ून से लथपथ एक दीवार गिरती है । 

तो कविता की चार किताबें उसपे लिखी जाती हैं ।

क्या तुम संगमरमर के इन बाग़ों में खड़े इन कविताओं को पढ़ पा रहे हो ?

इन कविताओं ने बरसात की बूँदों का उत्साह ख़त्म कर दिया है।

एक शहर में जब दो अलग अलग आवाज़ें उठती हैं 

तो कई दीवारें गिरती हैं 

और इन दीवारों से निकलती हैं 

गोलियाँ – हवा – बरसात 

तुम संगमरमर के बाग़ों से बाहर आओ 

और उस गरमी को महसूस करो 

जो एक अलग आवाज़ उठने पर पैदा होती है 

कई सावण तुमने इन बाग़ों में काट दिए हैं 

अब कुछ पल संदल के मैदानों में भी गुज़ारो ।

क्या तुम सुन पा रहे हो ? 

– Gursimran Datla 

cinema · Uncategorized

The Seventh Continent- a failure of modern society.

500full-the-seventh-continent-poster

Touching the fragile issues of moving, living, surviving and dying, yesterday I saw the first directorial debut of legendary Austrian Director Michael Haneke’s “The Seventh Continent”. The Seventh Continent, also known as a pure existentialist tale in cinema, released in 1989 is an Austrian Drama film inspired by a true story of an Austrian middle-class family that committed suicide.

Haneke is often associated with cinema’s great modernists, with the filmmaker like Bresson and Antonioni. Haneke’s films document the failures of modern society on a variety of levels.

Michael-haneken-5801243440752

The Seventh Continent is highly disturbing film made with the peculiar style full of close-ups where instead of characters’ faces, we see their hands, movements, and actions, we listened to their view of the breakfast cereals, shoes, and shopping. It should be boring but is instead gripping, a quiet build-up to the tragedy to come.

This film is about a dull middle-class family in Linz, Austria that opts for collective suicide rather than continues to “live” within the constricting, anti-humane monotony of everyday bourgeois society. The Story is shown in a series of short scenes going about their daily life over several years. The husband is an engineer, the mother an optician who co-owns the business with her brother. They have a bright, a subdued little girl.

0-KohPrH5ZMFuYJ0rm

In the opening half an hour, Haneke avoids the direct involvement of Viewer and character to make it more cathartic. But after this anthropological detachment, we get a clear view of their faces and are then disturbing hints that all is not well. The wife begins to cry as they are driving through a car wash – a family ritual – and the little daughter frighten a teacher at school by pretending to be blind.

Finally, it becomes clear that the family is coming to a terrifying decision about the dullness and futility of their lives, which is finally anatomised in the most spectacular way. Haneke allows us to suspect, little by little, what’s coming and the experience is genuinely terrifying: and it is also deeply troubling to retrace the film once it is over, trying to pinpoint what was really happening in the adults’ heads, and when.

getImage

Haneke is a master of absurd, dull and this kind of drama where he is more concerned towards the process than the result. I don’t think there is any greater cinematic interpreter of alienation exists in the world today than Haneke.

Depicting monotonous actions like counting of money at a supermarket, the distractions of television, the meaninglessness of work, the film reflects the powerlessness and secludedness of people in modern society. Haneke chronicles a family enslaved to the structures they have created, operating in a morass of emotional vacuity.

The Seventh Continent is a tragic announcement of the demise of a civilization.

 

  • Gursimran Datla
Uncategorized

Wonders of Wim Wenders – “Paris Texas”

विम वेंडर्स की 1984 में आई “पेरिस,टेक्सास” 110 सालों से चले आ रहे अमेरिकी स्टाइल से बिलकुल परे की फ़िल्म है। अमरीका के टेक्सास में शूट हुयी और अंग्रेजी में बनी “पेरिस,टेक्सास”, विम वेंडर्स की तेहरवीं फिल्म है। वेंडर्स जर्मन के रहने वाले हैं और “पेरिस,टेक्सास” अमनेशिया का शिकार हुए टेर्विस की कहानी है जो 4 साल गुम रहने के बाद अपने घर लौटता है। कैसे वो अपने बेटे को पाता है, उसकी माँ को ढूँढने की कहानी और बाप बेटे के रिश्ते का गठन, यह “पेरिस,टेक्सास” का मूल है।
2 विश्व युद्ध देखने के बाद जर्मन बुरी हालात में रहा । लाखों लोग कभी घर को लौटे ही नहीं, और करोड़ों अपने सगे सम्बन्धियों का राह देखते रहे। विम भी 1945 में पैदा हुए और ज़ाहिर उन्होंने आस पास दूसरे विश्व युद्ध के बचे खुचे से जर्मन को खड़े होते देखा होगा।अक्सर बाल मनों पर त्रासदी का गहरा असर होता है और वह ता-उम्र रहता है।

 

1606942_10203360259669523_3357182874023803350_n

1966 में कॉलेज ड्राप आउट रहे वेंडर्स को पेरिस के मशहूर फ़िल्म संस्थान ‘ला फेमिस्’ में भी जगह नहीं मिली।फिर एक स्टूडियो के साथ जुड़े।
“पेरिस,टेक्सास” फ़िल्म 1984 के कान्स फ़िल्म समारोह में गोल्डन पाम अवार्ड हासिल कर चुकी है। विम वेंडर्स फ़िल्म सर्किल में ज्यादातर documentaries के लिए जाने जाते हैं। Room 666, Buena Vista Social Club इत्यादि उनकी सबसे चर्चित documentaries रही हैं।
“पेरिस,टेक्सास” फ़िल्म एक रोड मूवी की तरह है पर इसके हाशिये में एक आदमी के ख़लाअ की कहानी भी है। विम वेंडर्स ने बहुत ही नयूनतम बजट में फ़िल्म बनाई है और नए फिल्मकारों के लिये यह फ़िल्म किसी वर्कशॉप से कम नहीं है। वह इसके एक एक सीन को खोल कर काफी कुछ सीख सकते हैं। पिछले साल रिलीज़ हुयी रिचर्ड लिंकलेटर की boyhood भी जरूर Paris,Texas से कहीं ना कहीं प्रभावित रही होगी। मेहज़ 4 किरदारों से ढाई घंटे की फ़िल्म, वह भी सिर्फ इंसानी ख़लाअ पर आधारित, बहुत ही कलाकारी चाहिये भाई।
यह फ़िल्म, ट्रेविस नामी किरदार का एक मज़ेदार character study है जिसको लिखा है Pulitzer Prize जेतू नाटककार “सैम शेपर्ड” ने और इस किरदार को विश्वसनीय निभाया है Harry Stanton ने। Harry का चेहरा भी फ़िल्म में उसी लैंडस्केप जैसे व्यतीत होता है जिसमें पूरी फ़िल्म दौड़ती रहती है।
Wim wenders न्यू जर्मन सिनेमा के अग्र दूत रहे हैं और शेपर्ड के साथ उनकी यह फ़िल्म अमरीकी समाजवाद पर एक चुप चपिता कटाक्ष भी है। परिवार इस दौर में कहाँ खड़ा है? इच्छाएं और चिंताएं क्यों इंसान से ऊपर हो गयी हैं।
Robby Miller, जो के इस फ़िल्म के सिनेमेटोग्राफर हैं उनकी तारीफ भी बनती है। जिस सरलता के साथ उन्होंने कम्पोजीशन प्रस्तुत की हैं, वे कमाल हैं। वे शायद इकलौते सिनेमेटोग्राफर हैं जिन्होंने उस दौर के लगभग सभी इंडिपेंडेंट फिल्मकारों के साथ काम किया जैसे Lars von Trier, Jim
Jarmusch इत्यादि। पिछले साल ही अमरीकी सिनेमटोग्राफर्स की सोसाइटी ने उन्हें अंतर्राष्ट्रीय सिनेमा में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सन्मानित किया ।
40 साल के ऊपर के फ़िल्म कैरियर के बाद आज भी, विम वेंडर्स का जोश कम नहीं हुआ। वह आज कल 3D तकनीक के साथ एक आर्किटेक्ट पर डॉक्यूमेंट्री बना रहे हैं। इसे सिनेमा के जादू ही कहा जाए के यह फ़िल्म को बनाने वाले को भी बोर नहीं होने देता। पिछले साल की सर्वोत्तम फ़िल्म भी 3D फ़िल्म थी नाम था goodbye to language। जिसे निर्देशित किया था 85 साल के Jean-Luc Godard ने। सलाम सिनेमा तुझे…।

Uncategorized

Monsieur Lazhar – a silent art of storytelling.

आखिर क्या होती है फ़िल्म ! आखिर कर क्या जाती है फ़िल्म। क्यों हमारे पिछले गुज़र चुके बिम्बों को दुबारा हमारे सामने ला खड़ा करती है एक फ़िल्म ? क्या एक फ़िल्म वही है जो अचंभित कर देने वाली तकनीक से बनी हो ? या वो जो स्टोरी टेलिंग में घुमावदार मोड़ लिए ढाई घंटे बैठने का साधन हो वो ? अगर फ़िल्म समझ पाना इतना आसान होता तोह यह माध्यम कभी अपने आप में इतनी शक्ति न रखता। ना ही दुनिया के महान मुल्कों से फ़िल्म मूवमेंट जनम लेतीं और ना ही रोबर्ट ब्रेस्सों, एंटोनी, बर्गमैन इत्यादि फिल्मकार कभी कलाकार कहलाते। यह फ़िल्म ही थी जो इनके बाद भी इनकी बताई कहानियों को आज भी ज़िंदा रखे हुए है। खैर इस माध्यम पर पहले से बहुत कुछ लिखा जा चूका है, पर यहां मैं बात करना चाहूँगा 2011 में आई केनेडियाई फ़िल्म Monsieur Lazhar की। 84वें अकादमी अवार्ड्स में कनाडा की तरफ से फॉरेन केटेगरी में नॉमिनेट हुयी यह फ़िल्म फ्रेंच भाषा में बनी है।

 

10406656_10203274659009560_6105962790539067716_n

 

हम जीते क्यों हैं ? क्या इस लिए के एक दिन किसी घटनाक्रम का शिकार हो कर मारे जाएँ। फिर चाहे वो घटना 25 की उम्र में हो या 85 की। अंत तोह मौत है। लेकिन यह मौत अपने साथ पीछे क्या छोड़ जाती है ? शायद, बच गए लोगों के लिए अचरज, दुविधा या फिर मातम। आखिर हल क्या है ? हल है भी ? ऐसी ही अवस्था, ऐसे ही सवालों से दर्शक को दो चार कराती है Philippe Falardeau द्वारा निर्देशित कैनेडियन फ्रेंच ड्रामा फ़िल्म ‘Monsieur Lazhar’।
कथा यह है के मोंट्रियल इलाके के एक एलेमेंट्री स्कूल की एक टीचर ने क्लास में आत्महत्या कर ली है। 11-12 साल की उम्र के बच्चे इस मौत से अचरज में हैं। इस से पहले के उपरोक्त कारण से स्कूल बंद हो, स्कूल की प्रिंसिपल पढ़ाई जारी रखने के लिए एक नए टीचर को अप्पोइंट करती है। नया अध्यापक जो के अल्जीरिया मुल्क से आया एक रिफ्यूजी है और कनाडा में अस्थायी राजनितिक शरण में है। बिना उसके बारे कुछ ज्यादा जाने उसे अप्पोइंट कर लिए जाता है। बशीर का पूरा परिवार पीछे अल्जीरिया के दंगों में खत्म हो चूका है। वो अब कनाडा में सम्पूर्ण नागरिकता के लिए लड़ रहा है। परिवार के छूट जाने के मातम को दिल में समेटे Bachir Lazhar ( नया टीचर ) उन अचरज भरे दिलों वाले बच्चों से मुखातिर होता है। यहां उसका सामना उन बच्चों से है जो उस आत्महत्या से ख़ौफ़ज़दा हैं। यहां दो दुनिया का मेल है, एक तरफ जहां मौत अपनी मर्जी से लायी गयी है दूसरी तरफ हालात की वजह से आई मृतयु है।
यहां दाद देनी बनती है Philippe की जिन्होंने इतने संवेदनशील विषय को इतनी खूबसूरती और बिना मेलोड्रामे के गढ़ा, के देखने वाला उन बच्चों में खुद को देख पाता है क्योंकि हमने भी अपने खोये हैं और उन अध्यापक से relate कर पाता क्योंकि हम सब कहीं न कहीं शरणार्थी हैं।
यह फ़िल्म Évelyne de la Chenelière के one act play ‘ Bachir Lazhar’ पर आधारित है। Mohamed Saïd Fellag जो के अल्जीरिया के ही जाने माने कॉमेडियन और लेखक हैं, उनके द्वारा निभाया गया बशीर का किरदार बेहद सराहनिय है। एक कॉमेडियन को गंभीर किरदार निभाते देखना कमाल होता है। फ़िल्म अपने अंदर बहुत सूक्षम पल, किरदार और लम्हे लिए हुए है। जब आप उन बच्चों को देखते हैं, उन की जदो-जेहद को देखते हैं,तोह आप अपने स्कूल के समय में जा पहुँचते हैं।
एक रिफ्यूजी, जिसके परिवार को जला दिया गया हो, जो अपने वतन लौट नहीं सकता कैसे बिना टीचिंग के किसी एक्सपीरियंस के क्या बच्चों के मन से अचरज निकल पाता है, यह इस कथा का अत्यंत महत्वपूर्ण काव है। सिनेमा की रूह को पसंद करने वाले लोगों को यह फ़िल्म अवश्य देखनी चाहिये क्योंकि यह रूह से बनी फ़िल्म है और इस बात को भी झुठला देती है के आज के दौर में, पहले जैसे उम्दा निर्देशक नहीं हो सकते।
फिल्लीप की निर्देशक के तौर पे यह चौथी फ़िल्म है। एक इंटरव्यू में फिल्लीप कहता है के
“we have to let the teachers invest
in their own classroom . There ’ s no use in trying to control everything . Education is fundamental . The teacher will never be a parent . The parents are the parents . But they have to engage in some sort of active
education beyond just teaching mathematics and French and English because the kids spend more time there than they do with their parents at that age .I think we
should let the teachers do their work and not impose too much stuff on them”.

पूरा इंटरव्यू आप इस लिंक से पढ़ सकते हैं –
collider.com/philippe-falardeau-monsieur-lazhar-interview/…/

Gursimran Datla

Uncategorized

Cinema, Aspirins and Vultures – a Brazilian masterpiece

12628486_10205214757590812_7066068874899290663_oमार्सेलो गोमेज़ की “Cinema, Aspirins and Vultures” 2005 में आई ब्राज़ीलियाई भाषा की फ़िल्म है जिसे उस साल कान्स समारोह में दिखाया गया। यह एक रोड मूवी है। अपने ट्रक पर Aspirins बेचते एक जर्मन युवा “जोहान” की कहानी है जो ब्राज़ील की गरीबी से जूझ रही जनसँख्या को एस्पिरिन इस्तेमाल करते लोगों की फ़िल्म दिखा कर अपनी दवाई बेचता है। जोहान फ़िल्म प्रोजेक्शनिस्ट है और एस्पिरिन सेलर भी। दरअसल प्रपोगंडा फ़िल्म दिखा कर वो लोगों को aspirin के फायदा बताता है और फिर बेचता है।
फ़िल्म का समय काल 1942 का है जब विश्व युद्ध में जर्मन, जंग से जूझ रहा था। जोहान को जंग पसंद नहीं थी, और वो किसी के मौत का कारण नहीं बनना चाहता था। सो उसका वापिस जर्मन लौटना मौत के बराबर था। अब वो उत्तरी पूरब ब्राज़ील में घूम घूम कर एस्पिरिन बेच रहा है। उसके अनुसार भूख से मरना जंग में मरने से ज्यादा अच्छा है।
ब्राज़ील भूखमरी और गरीबी से जूझ रहा है जहां लोग पलायन कर रहे हैं। सफ़र के दौरान जोहान को एक ब्राज़ीलियाई युवा मिलता है, जो बेरोज़गार है और “रियो” जाना चाह रहा है। पर वो कुछ पैसों के बदले जोहान का असिस्टेंट बनने को राज़ी हो जाता है और फ़िल्म प्रोजेक्ट होते देख बहुत खुश होता है। वो कहता है “सिनेमा तोह ऐसे दिखता है, जैसे इसे दिखाकर तुम शैतान को भी बाइबिल बेच सकते हो”।
फ़िल्म के साथ साथ ट्रक भी आगे बढ़ता जाता है। जंग और बदत्तर होती जाती है। फ़िल्म जीवन के कई पहलुओं पर से हो कर गुज़रती है। जैसे जंग, बिमारी, भुखमरी, डर, मौत, सेक्स, जीत, जोश, उम्मीद इत्यादि।
फ़िल्म आखिर तक पहुँचती है के नायक के सामने एक अंतर्द्वंद्व छिड़ जाता है। अगर वो जर्मन लौटता है तोह जंग में मारे जाने का डर और अगर “रियो डे जनेरो” जाता है तोह गुलामों के कैंप में झोंक दिया जाएगा।
फ़िल्म का अंत दुखद पर बहुत भावपूर्ण है।
जोहान, ब्राज़ीलियाई युवक को कहता है के सोचो हम दोनों जंग के मैदान में एक दूसरे के दुश्मन हैं तोह क्या तुम मुझे मारते ? यह सीन विश्व सिनेमा में फिल्माए गए कमाल के सीनों में से एक है। उसके बाद दोनों अपनी अपनी किस्मत को लेकर आगे बढ़ते हैं और फ़िल्म जिस ease के साथ शुरू होती है, उस से कहीं ज्यादा सवाल देकर चली जाती है।
फ़िल्म को 2007 के अकादमी अवार्ड्स के लिए ब्राज़ील की तरफ से नामांकित किया गया था। मेरा ऐसा मानना है के दक्षिण अमरीकी सिनेमा के साथ अवार्ड्स के मामले में हमेशा से अन्याय हुआ है। अर्जेंटीना, चिली, पैराग्वे और वेनेन्ज़ुला से कमाल की फिल्में निकली हैं जो किसी भी मामले में फ्रेंच और अमेरिकन फिल्मों से कम नहीं है।
फ़िल्म के दोनों किरदार हालातों से भाग रहे हैं। एक जंग से दूर रहना चाहता है और दूसरा अपनी गरीबी से भाग रहा है। ट्रक सबसे बड़ा मेटाफर है। ब्राज़ीलियाई युवान फ़िल्म में एक जगह कहता है के “पूरी दुनिया जंगों से जूझ रही है और हम यहां पूरबी ब्राज़ील के खाली गाँव में घूमकर मज़े कर रहे हैं”।
खैर, मार्सेलो गोमेज़ की बतौर निर्देशक यह पहली फ़िल्म थी। इसके बाद उसने कुछ और फिल्में भी बनायीं। इस फ़िल्म के बाद मैं जरूर उनको देखना चाहूँगा।

– Gursimran Datla