Uncategorized

Himachal – 1st Visual

मेरा ऐसा मानना है के हर धार्मिक स्थल की एक अपनी ही ऊर्जा होती है और हर स्थल को उस के आस पास के वातावरण के मापदंड से भी गुज़ारना पड़ता है। वर्ण अमृतसर में स्थित स्वर्ण मंदिर की ऊर्जा अलग है, दिल्ली में बंगला साहिब के अलग और पहाड़ों में बसे मनिकरण साहिब की अलग। हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शेहेर से आगे बुन्तर और उस से 35 किलोमीटर आगे है मणिकरण साहिब।

किसी समय गुरु नानक यहां पर आकर रुके थे। गुरद्वारे के साथ यहां शिव मंदिर भी है। हर कल्चर से लोग यहां आते हैं और दुनिया भर में मनिकरण अपने गरम पानी के उबलते फुहारों के लिए जाना जाता है। लंगर की दाल सब्ज़ियाँ यहां 96 डिग्री उबलते पानी में पकाई जाती हैं और ऐसी कई छोटी छोटी गुफाएं हैं जहां बर्फ़बारी के मौसाम में भी पसीना आ जाता है। कहा जाता है यहां की तपिश से जोड़ों को आराम मिलता है। सरोवर में भी गरम पानी है।
image

कुछ लोग इसे चमत्कार मानते हैं, कुछ साइंटिफिक लोग कहते हैं के ज़मीन के नीचे कोई धात है जो गर्मी पैदा करती है। आप अपने हिस्से का सच जो रखना चाहें रख सकते हैं। पहाड़ों के बीचो बीच बसा छोटा सा ये गुरुद्वारा अलौकिक नज़ारे से कम नहीं। धार्मिक महत्त्व से ज्यादा मैं प्राकृतिक महत्व में विश्वास रखता हूँ और मुझे लगता है जो परमात्मा ढूँढने निकले हैं उन्हें पहले खुद को ढूंढना चाहिये।परमात्मा मुश्किल रास्तों सर नहीं मिलता, वो किसी पागल भूखे के अंदर भी होगा, किसी बच्चे के और उस बुज़ुर्ग के भी जो आखरी समय परमात्मा ढूँढने निकला है। हिमाचल खूबसूरत वादियों से भरा है, यह स्तब्ध कर देने वाले नज़ारों से भर है, किफायती भी है और मददगार भी।
image

यकीन किसी मानसिक उपचार करने वाले डॉक्टर की फीस से सस्ता ही है। इस मुहावरे से आप कुछ भी समझ सकते हैं। हाहा !!
यहां भिन्न भिन्न तरह के विसुअल्स आपको मिल जाएंगे। अपनी लोर में घूमते तिब्बतियन लामा भी, प्राचीन शिव मंदिर भी, चिकन पकोड़े की दूकान भी,चाइनीस चॉप्सी भी। यहां पर एक ही पहाड़ पर खड़ी दो तरह की सेटलेमेंट्स मिल जाएंगी। एक जो पहाड़ के अंदर सटी हुयी और दूसरी जो पहाड़ के जड़ों में बसी हुयी।
image

4-4 टेबलों वाले कई छोटे छोटे रेस्टोरेंट हैं । गुरद्वारे के अंदर राम का नाम भी मिल जाएगा, गुरबानी में अल्लाह भी सुनाई पड़ जाएगा। पानी की बौछारों से सफ़ेद पड़ चुके पत्थर जन्मों का इतहास समेटे हुए हैं। आप कल्पना कर के देखिये के कुदरत ने धर्म सथलों को अपनी गोद में समेटा हुआ है और कुछ इंजीनीयरों ने साइंस की मदद से पहाड़ों को काट उस धर्म स्थलों तक पहुँचने का रास्ता बनाया हुआ है। यहां पर रिलिजन और साइंस के बीच का युद्ध समाप्त हो जाता है।
आप यहां आना चाहेंगे या नहीं, यह आपकी इच्छा होगी पर हिमाचल जरूर देखिएगा। वादियों के इलावा जो शान से खड़े रहने की इसकी भावना है, वो देखने को बनती है।
Pictures & article – Gursimran Datla

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s