Uncategorized

Zia jhangke’s still life

जब हमारे घरों में तुम्हारे बांधों का पानी चला आएगा और उन छतों पर बैठी हमारी बेटियां और बहुयेँ सरे बाजार बेच दी जाएंगी तोह हम कहाँ जाएंगे ? उन घरों में जहां बूढ़ी दादियाँ और नानियाँ रहतीं थीं और जहां पर उन्होंने अपना सारा जीवन गुज़ारा, उन घरों के टूटने की खबर पा कर वह क्या करेंगी ? तुम्हारे डैम जब हमारी कबरगाहों के ऊपर से निकलेंगे तोह क्या उनमें पानी के साथ साथ हमारा भय लहू भी होगा क्या ? जिया-झांग-के की फ़िल्म “स्टिल लाइफ” यही सवाल करती है, और बिलकुल अपने नाम के अनुसार। एकदम खामोशी से। 2006 में आई यह चीनी फ़िल्म  Yangtze नदी किनारे बसे एक छोटे से कसबे Fengjie में बनी है, Fengjie टूटने के वेस में है क्योंकि वहाँ 3 डैम बनने हैं, जो चीन की सफलता और उन्नति का प्रतीक होंगे।Still Life चल रहे इसी विध्वंस में दो लोगों की कहानी है जो कई सालों बाद वहाँ अपने जीवन साथी को ढूँढने आते हैं। पहली कहानी में शांक्सी में कोयले की खदान में काम करने वाला ‘हान’ जब 16 साल अपनी कॉलोनी में लौटता है तोह वहाँ नदी के पानी के सिवा कुछ नहीं पाता। दूसरी कहानी में ‘शेन’ 2 साल बाद इसी कसबे में लौटती है तोह अपने पति को अमीर बिजनेसमैन के रूप में पाती है। पता चलने पर अब उसका पति किसी अमीर इन्वेस्टर औरत का प्रेमी हो चूका है। still life प्रांतिक तबाही के साथ साथ इंसानी भावनाओं की तबाही का भी बड़ी ही मासूमियत से वर्णन करती है। मसलन फेरी की मोटर की आवाज़ ‘हान’ की आवाज़ लगने लगती है और सर्वनाश होते घरों पर पत्थर तोड़ती हथोड़ियां मानो ‘शेन’ के मन की आवाज़ हो। जिया-झांग-के ने चीन में प्रगति और उन्नति की यह भ्यावेह  तस्वीर को अतिसूक्षम (minimalist) तरीके से फिल्माया है। यह उनका तरीका है। ऐसा ही कुछ उन्होंने “24 city” में भी किया है।
12 माले की इमारत, जिसपे हथोड़ियां चलाई जा रहीं हैं, उसके ग्यारवें माले पर जब ‘हान’ और उसकी बीवी को फैसला लेना है के वह अलग हो जाएँ या साथ रहें तभी उसी कमरे की एक टूटी खिड़की में से दूर एक 25 माले की इमारत धाम से गिर जाती है। यही “still life” की खूबसूरती हो उठती है। ऐसे फ्रेम हज़ारों आवाज़ों से भी ऊँचा बोल उठते हैं। यही इस visual medium की power को दर्शाता है। अच्छे दिनों और तरक्की, प्रगति पसंद इंसानो को यह फ़िल्म देखनी चाईये। पर यकीनन वोह 5 मिनट देखकर इसे बंद कर देंगे क्योंकि मसाला देखने के इछुक इतने स्थिर फ्रेम नहीं देख पाएंगे।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s