Uncategorized

Diplomacy v/s Generosity

Diplomacy और generosity बिलकुल दीमक की तरह है। यह भीतर से ईमानदारी और सच्चाई को कुरेदती जाती है। जैसे जैसे इंसान सफलता को और बढ़ता जाता है, वह diplomat होता जाता है और उस सफलता की निरंतरता को बरकरार रखने के लिए उसे हर किसी के प्रति generous होना पड़ता है । यह दोनों विशेषताएं इंसान के अंदर के रूप को छुपा उसके हाथ में कई नकली मखौटे पकड़ा देतीं हैं। सदी के महानायक कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन इसी diplomacy के चलते happy new year जैसी फ़िल्म की तारीफ करते हैं। पिछले लंबे समय से उन्होंने कोई सफल फ़िल्म नही दी है और भूतनाथ 2 से उसका बैंक बैलेंस नहीं बढ़ा। twitter पर फराह, साजिद, और सलमान की तरह की फिल्में करने की ख्वाहिश जिताने वाले अमिताभ बाखूबी जानते हैं के वह सिर्फ KBC के सहारे नही चल सकते। अमिताभ पिछले 60-70 सालों से काम कर रहे हैं और उम्र के इस पड़ाव पर वेहलापन तकलीफदेह होता है। इसी diplomacy से वह फराह की अगली फिल्मों में अभिषेक की जगह पक्की करना चाहते होंगे और खुद भी किसी 200-300 करोड़ की फ़िल्म का हिस्सा होना चाहते होंगे। बहती गंगा में हर कोई स्नान करना चाहता है। पर जया बच्चन ने हैप्पी न्यू इयर को वाहयात फ़िल्म बताया है, उनकी नज़र में ऐसी फिल्मों से घर बैठना ज्यादा बेहतर है पर उनके पति और बेटे को यह ग्वार नहीँ। दोनों पार्टी एनिमल्स हैं। जया के Happy New Year को “वहयात” कहते ही generosity के चलते अमिताभ ने फराह और शाहरुख़ से जया के ब्यान पर माफ़ी मांगी है। शायद ऐसा पहली बार हुआ है। पर इस generosity के चलते ही सिनेमा में फराह और शाहरुख़ के उस घटियापन वाले ड्रामों के कद बढ़ गया है और अमिताभ, जो सदी का महानायक था, वह बोना हो गया है। diplomat और generous होना आज की जरूरत हो गया है और यही टुच्चेपन, नकलीपन और दोगलेपन का कारण भी बन गया है। हिंदी सिनेमा में अमिताभ उस वक़्त आये जब लोग समाजिक फिल्मों और प्रेम कहानियों से बोर हो रहे थे। अमिताभ को लेकर मनमोहन देसाई और चोपड़ा बैनर द्वारा गढी गयी मसालेदार फिल्मों से लोग मनोरंजित हुए और इसी मोरंजन के चलते मसाले, केसर के भाव बिकने लगे। आज यह मनोरंजन हैप्पी न्यू इयर बन गया है और पुराने मनोरंजन को गढ़ने वाले diplomacy दिखाते हुए इस न्यू इयर की तारीफ में कसीदे पढ़ रहे हैं। उदारता (generosity) सिर्जनात्मक्ता ( creativity)की दुश्मन है और कूटनीति( diplomacy) सिर्जनहार (artist) की।
– gursimran datla

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s